कुमाऊं पोस्ट न्यूज :

…. बचपन में आपने वो कहावत तो जरूर सुनी होगी कि पढ़ोगे-लिखोगे बनोगे नवाब और खेलोगे-कूदोगे तो बनेगो खराब।
लेकिन गैरसैंण के एक युवा ने इस कहावत को झुठलाते हुए खेल-खेल में करोड़पति बनकर सबको चौंका दिया है।
बुजुर्गों और लोगों का कहना है कि जब किसी के सितारे बुलंद हों तो ऊपर वाला भी छप्पर फाड़ कर देता है।

अपने जिले की हर खबर से रहेंं अपडेट                                         यहांं क्लिक कर कुमाऊं पोस्‍ट के Telegram Group से सीधे जुड़ें

कुछ ऐसा ही घटित हुए लॉकडाउन के कारण अपनी नौकरी छोडक़र बेरोजगार होकर उत्तराखंड लौटे युवा दर्शन बिष्ट के साथ भी। जिन्होंने दुनियाभर में आकर्षण का केंद्र और धूम मचाने वाले मौजूदा सीजन में दो-चार-बीस लाख नहीं बल्कि पूरे एक करोड़ रुपये जीते हैं।

विजेता दर्शन सिंह बिष्ट के मुताबिक उन्होंने बीते सोमवार को माई इलेवन सर्किल ऐप के जरिए यूएई में हो रहे आईपीएल के दौरान दिल्ली केपिटल और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच हुए मैच में अपनी बेस्ट टीम बनाई। जिसमें वीकली करोड़पति के लिए तय एक करोड़ रुपये का मेगा प्राइज उनके नाम रहा और उन्होंने एक करोड़ रुपये जीतकर सबको चौंका दिया और वह रातों-रात करोड़पति बन गए।

अपने जिले की हर खबर से रहेंं अपडेट                                         यहांं क्लिक कर कुमाऊं पोस्‍ट के Whatsapp Group से सीधे जुड़ें

दर्शन को जीएसटी आदि काटकर लगभग 70 लाख रुपये की रकम मिलेगी।

होटल में नौकरी करते थे दर्शन
गैरसैंण के रहने वाले दर्शन सिंह बिष्ट लॉकडाउन से पहले राजस्थान के जयपुर में एक होटल में नौकरी करते थे। लॉकडाउन के बाद उनकी नौकरी छूट गई और उन्हें घर आना पड़ा। आईपीएल शुरू हुआ तो उन्होंने ऑनलाइन किस्मत आजमाने की सोची। माई इलेवन सर्किल ऐप के जरिए उन्होंने दिल्ली केपिटल व किंग्स इलेवन पंजाब के मैच में अपनी टीम बनाई और टीम का स्कोर सबसे ज्यादा था। इस तरह से वह एक करोड़ रुपये जीतकर विजेता बन गए।
क्रिकेट को बढ़ावा देने के साथ ही अपनी शादी पर खर्च करेंगे रुपये
विजेता दर्शन सिंह बिष्ट ने बताया कि वह आईपीएल के माध्यम से जीती धनराशि से अपनी शादी कर परिवार बसाएंगे। दर्शन ने कहा कि उन्होंने सौरव गांगुली के माय इलेवन सर्किल ऐप के जरिए यह धनराशि जीती है। वह जीती राशि में से कुछ धन अपने क्षेत्र में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए खर्च करेंगे। जिससे कि पहाड़ की प्रतिभाओं को भी राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पहचान मिल सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here