चम्पावत : गोरलचौड़ रोड पर स्टेशनरी की दुकान चलाने वाले एक युवा व्यापारी ने दुकान में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि कोरोना की वजह से हुए लाकडाउन के कारण कारोबार बुरी तरह प्रभावित था और वह कुछ समय से तनाव में चल रहा था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

जानकारी के अनुसार गोरलचौड़ रोड पर पाटी के गहतोड़ा गांव के रहने वाले 36 वर्षीय शेखर गहतोड़ी कापी किताब की दुकान चलाते थे। उनका परिवार दुकान के कुछ दूरी पर ही किराए में रहता था। आज मंगलवार की दोपहर जब वह काफी देर तक खाना खाने के लिए कमरे में नहीं आए तो उनकी पत्नी उन्हें बुलाने के लिए दुकान में गई। दुकान खुली थी, वह वहां नहीं थे। एक अन्य व्यापारी के साथ पत्नी जब दुकान के भीतर गोदाम में गई तो उनकी पैरों तले जमीन खिसक गई और वह दंग रह गए। कमरे में छत के कुंडे से व्यापारी का शव लटक रहा था। घटना की जानकारी पुलिस को दी गई और पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
आसपास के व्यापारियों से जानकारी लेने पर पता चला तो व्यापारी आर्थिक रूप से परेशान था। कोरोना की वजह से हुए लाकडाउन के कारण दुकान बंद थी और इस समय काम काफी मंदा चल रहा था। जानकारी मिली कि शेखर ने आसपास के व्यापारियों से दुकान का सामान खरीदने की बात भी कही थी। दुकान न चल पाने के कारण वह तनाव में था और मानसिक रूप से परेशान था।
वह अपने पीछे पत्नी और तीन बच्चे एक लडक़ा व दो लड़कियों को छोड़ गया है। शोक में गोरलचौड़ के व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद रखीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here