डबल इंजन पहाड़ में फेल,जीवनदायनी 108 के पहिए जाम

0

– शासन से बजट न मिल पाने के कारण ठप हो गई 108 सेवा
– तीन माह से नहीं मिला 108 वाहन चालकों का वेतन
प्रदेश में  डबल इंजन सरकार होने के बाद पहाड में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलने की उम्मीद जगी थी। परंतु पहाड में स्वास्थ्य सुविधाएं बद से बद्तर होती जा रही हैं। पहले ही डाॅक्टरों की कमी झेल रहे सरकारी अस्पतालो ं के बाद अब ग्रामीण क्षेत्रों में जीवनदायनी मानी जाने वाली 108 वाहन सेवा भी बजट न मिल पाने के कारण बंद हो गई है। वाहनों की सर्विस न हो पाने और टायरों के घिसे होने के कारण 108 सेवा बंद हो गई है। टायर घिसे होने कारण ग्रामीण क्षेत्रों में 108 सेवा नहीं मिल पा रही है। 3 माह से वाहन चालकों का वेतन तक नहीं मिल पाया है। जिले में पांच 108 वाहन हैं तथा 3 खुशियों की सवारी वाहन हैं बजट न मिल पाने के कारण सभी वाहन प्रभावित हो रहे हैं। रेफर किए गए मरीजों के लिए सुविधा नहीं मिल पा रही है। सीएमओ एमएस बोहरा का कहना है शासन से ही बजट नहीं मिल पा रहा है। बजट के लिए पत्राचार किया है।